*चाइनीज सामान बन्द होने से मिट्टी के समान की बढ़ी मांग बाजार में मिट्टी के बने हुए स्वदेशी सामानों की बड़ी मांग*

*चाइनीज सामान बन्द होने से मिट्टी के समान की बढ़ी मांग बाजार में मिट्टी के बने हुए स्वदेशी सामानों की बड़ी मांग*

*चाइनीज सामान बन्द होने से मिट्टी के समान की बढ़ी मांग बाजार में मिट्टी के बने हुए स्वदेशी सामानों की बड़ी मांग*

*सहारनपुर खबर*

बीबीसी लाइव-

सहारनपुर : इस दीपावली पर चाइनीज सामान के बहिष्कार का असर जिले में साफ दिख रहा है. बाजार में मिट्टी के बने हुए स्वदेशी सामानों की धूम है. इस चक्कर में कुम्हारों की बल्ले-बल्ले हो गई है. पिछले साल के अनुपात में इस बार चाइनीज सामान बाजार से गायब दिख रहे हैं पिछले डेढ़ दशक से हिन्दुस्तान के बाजारों पर चाइनीज सामान का कब्जा रहा है. इससे न सिर्फ स्वदेशी सामान बिकने बंद हो गए थे बल्कि दीपावली पर मिट्टी के दिये और बर्तन बनाने वाले कुम्हारों के लिए भी आर्थिक संकट आ गया था. प्रधानमंत्री मोदी के प्रयास से चाइनीज सामान पर जब प्रतिबंध लगा तो कुम्हारों की बल्ले-बल्ले हो गई।
पिछले साल सहारनपुर में 300 करोड़ का चाइनीज सामान का कारोबार हुआ था. चाइनीज सामान पर प्रतिबंध लगने के बाद कुम्हारों के भी अच्छे दिनों की शुरूआत हो गई है. इस साल की दीपावली में अपनी दिलकश कला से मूर्ति और दिया बनाने वाले कुम्हारों की रौनक फिर से लौट आई है. इसके चलते मार्केट में मिट्टी के दियों और मूर्तियों की डिमांड बढ़ गई है।

राहुल भारद्वाज
ब्यूरो सहारनपुर
bbc live न्यूज़।

बीबीसी लाईव

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account