राजधानी में दर्दनाक हादसा : तेज रफ्तार और अनियंत्रित बाइक सड़क किनारे लगे पोल से भिड़ी , 3 छात्रों की मौत के जिम्मेदार रफ्तार और शराब या दोनों ही

राजधानी में दर्दनाक हादसा : तेज रफ्तार और अनियंत्रित बाइक सड़क किनारे लगे पोल से भिड़ी , 3 छात्रों की मौत के जिम्मेदार रफ्तार और शराब या दोनों  ही

राजधानी में दर्दनाक हादसा : तेज रफ्तार और अनियंत्रित बाइक सड़क किनारे लगे पोल से भिड़ी , 3 छात्रों की मौत के जिम्मेदार रफ्तार और शराब या दोनों ही

अब्दुल सलाम क़ादरी बीबीसी लाइव छत्तीसगढ़-
राजधानी में दर्दनाक हादसा : तेज रफ्तार अनियंत्रित बाइक सड़क किनारे लगे पोल से भिड़ी , 3 छात्रों की मौत
सड़क हादसे में छात्रों की हुई मौत

रायपुर। राजधानी के नया रायपुर में शुक्रवार सुबह-सुबह हुए दर्दनाक हादसे में बाइक सवार 3 छात्रों की मौत हो गई। सभी छात्र एक ही बाइक से नया रायपुर घूमने के लिए पहुंचे थे। इस दौरान तेज रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पैडस्ट्रियन पर लगे पोल से जा टकराई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी के शव पोस्टमार्टम के लिए मेकाहारा भिजवा दिए हैं।

 

– जानकारी के मुताबिक, कांकेर निवासी प्रवीण गर्ग (20)

पुत्र राकेश कुमार गर्ग, राजिम गरियाबंद निवासी परमानंद साहू (22) पुत्र शंकर लाल साहू और कांकेर निवासी अर्पित नाथ (21) पुत्र प्रतींद्र नाथ तीनों रावतपुरा सरकार यूनिवर्सिटी के छात्र थे। – तीनों दोस्त शुक्रवार सुबह करीब 7.15 बजे एक ही बाइक पर नया रायपुर घूमने के लिए आए थे। इस दौरान तेज रफ्तार बाइक का संतुलन बिगड़ गया और मंदिर हसौद व नया रायपुर के बीच सड़क किनारे पैडस्ट्रियन पर लगे पोल से जा टकराई। – हादसा इतना जबरदस्त था कि तीनों उछलकर दूर जा गिरे और मौके पर ही उनकी मौत हो गई। हादसे के समय आस-पास कोई नहीं था, ऐसे में माना जा रहा है कि तत्काल उपचार नहीं मिलने के कारण उन्होंने दम तोड़ दिया। इसकी जानकारी पेट्रोलिंग पुलिस को लगी तो उन्होंने शव को कब्जे में लेकर मंदिर हसौद थाने को इसकी सूचना दी। – युवकों की पहचान उनके पास मिले आधार कार्ड और वोटर आईडी कार्ड से हुई है। पुलिस ने इस संबंध में मृतक छात्रों के परिजनों के साथ ही विवि प्रशासन को इसकी सूचना दे दी है।

जानकारी और यूनिवर्सिटी के छात्रों के अनुसार तीनो ने जमकर शराब भी पी रखी थी। और किसी टीचर के पार्टी में भी शामिल हुए थे। लेकिन यहाँ यह बताना जरूरी है कि अगर छात्रों ने शराब पी थी तो टीचर को बाइक चलाने से रोकना चाहिए था।

तो छत्तीसगढ़ में शराब ने तीन और जिंदगियों के साथ उनके परिवार को भी उजाड़ दिया है। आखिर शराब के प्रतिबंध  पर रमन सिंह की चुप्पी कब टूटेगी या यू ही शराब से घर बर्बाद होते रहेंगे।

बीबीसी लाईव

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account