एफआईआर दर्ज कराने के लिए रेप पीड़‍िता को तय करना 75 किलोमीटर का सफर

एफआईआर दर्ज कराने के लिए रेप पीड़‍िता को तय करना 75 किलोमीटर का सफर

एफआईआर दर्ज कराने के लिए रेप पीड़‍िता को तय करना 75 किलोमीटर का सफर

भोपाल 

देश के राजनेता अक्‍सर ‘सरकार आपके द्वार’ के नारे देते रहते हैं लेकिन मध्‍य प्रदेश से आई यह खबर आपको सोचने को मजबूर कर देगी। राज्‍य के मुरैना जिले में रविवार रात को गैंगरेप की शिकार एक नाबालिग लड़की को एफआईआर दर्ज कराने के लिए 75 किलोमीटर दूर जाना पड़ा। मध्‍य प्रदेश में ऐसी स्थिति तब है जब राज्‍य सरकार ने रेप की घटनाओं को रोकने के लिए कई दावे किए हैं।

बताया जा रहा है कि नाबालिग बच्‍ची शौच के लिए खेतों में गई थी और उसी समय उसका अपहरण कर लिया गया। नागरा पुलिस स्‍टेशन के प्रभारी शिवप्रताप सिंह राजावत ने कहा, ‘चार लोगों- चंदन सिंह ऊर्फ सूखे, सोनपाल सिंह, धर्मेंद्र सिंह और जनवीर सिंह- ने उसका अपहरण कर लिया और बारी-बारी से रेप किया। इसके बाद ये चारों हैवान लड़की को खेत में छोड़कर भाग गए।’

उन्‍होंने कहा कि लड़की किसी तरह से घर पहुंची और उसने अपने परिवार को पूरी घटना बताई। परिवारवाले सोमवार शाम को पुलिस के पास ले गए। राजावत ने कहा, ‘कानून के मुताबिक रेप के मामले को केवल महिला पुलिस अधिकारी ही दर्ज करेगी लेकिन नागरा और उसके आसपास के किसी पुलिस स्‍टेशन में महिला पुलिस अधिकारी नहीं हैं। साथ ही पास के सरकारी अस्‍पताल में कोई महिला डॉक्‍टर नहीं थीं।’

राजावत ने बताया कि रेप पीड़‍िता को मुरैना कस्‍बे ले जाना पड़ा जोकि वहां से 75 किमी दूर था। उन्‍होंने कहा कि एफआईआर भले ही वहां दर्ज हुई लेकिन हमने पहले ही आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। सभी आरोपियों को शाम तक अरेस्‍ट कर लिया गया और अदालत में पेश किया गया। उनके खिलाफ गैंगरेप का मामला दर्ज किया गया है।

बीबीसी लाईव

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account